गन्ना किसानों को लाल कैंसर से फसल को बचाना है जल्दी करना होगा ये उपाय विशेषज्ञ का दावा किसानों को होगा फायदा

गन्ना किसानों को लाल कैंसर से फसल को बचाना है जल्दी करना होगा ये उपाय विशेषज्ञ का दावा किसानों को होगा फायदा

UP Ganna Parchi Calendar कृषि विज्ञान अधिकारी ने बताया कि इस रोग को गन्ने के लिए कैंसर माना गया है क्योंकि एक बार यह रोग किसी भी खेत में लग जाए तो इसकी रोकथाम जल्दी नहीं की जा सकती। जिस भी खेत में यह रोग होता है उसकी फसल बर्बाद हो जाती है। गन्ने की फसल में अक्सर लाल सड़न रोग दिखाई देता है जिसे रेड रैट रोग के नाम से जाना जाता है। यह रोग गन्ने की फसल के लिए एक प्रकार का कैंसर है। किसान अपनी फसलों को इस बीमारी से बचाने के लिए कई प्रयास करते हैं फिर भी उन्हें नुकसान का सामना करना पड़ता है। लेकिन अब किसानों के साथ ऐसा नहीं होगा

कृषि विज्ञान अधिकारी डॉ. आईके कुशवाह ने बताया कि इस रोग को गन्ने के लिए कैंसर माना गया है क्योंकि एक बार यह रोग किसी भी खेत में लग जाए तो इसकी रोकथाम जल्दी नहीं की जा सकती। जिस भी गन्ने के खेत में यह रोग लगता है उस खेत की फसल बर्बाद हो जाती है। इसका प्रभाव कई वर्षों तक खेत से नहीं जाता।

 

UP Ganna Parchi Calendar

गन्ने की खेती में रोग के लक्षण

डॉ. आईके कुशवाह ने बताया कि लाल सड़न रोग से प्रभावित गन्ने के तीसरे समूह की पत्तियां पीली पड़ने लगती हैं और पूरा गन्ना सूखने लगता है। प्रभावित गन्ने के सिरे को काटने पर भीतरी भाग लाल रंग का दिखाई देता है। जिसके बीच में सफेद धब्बे दिखाई देते हैं और शराब जैसी गंध आती है। गन्ना इतना कमजोर हो जाता है कि बहुत आसानी से टूट जाता है। यह एक फफूंदयुक्त मृदा एवं बीज जनित रोग है आज के समय में यह रोग गन्ने की 0238 प्रजाति में देखने को मिल रहा है UP Ganna Parchi Calendar

लाल सड़न रोग से बचाव के उपाय

उत्तर प्रदेश गन्ना उत्पादन के मामले में नंबर एक राज्य है यूपी में लाखों किसान गन्ने की खेती से जुड़े हुए हैं गन्ने की फसल सीजन 2022-23 में यहां 28.53 लाख हेक्टेयर में किसान अपने खेतो में गन्ने की खेती करते है गन्ने की खेती करने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है कृषि लागत एवं मूल्य आयोग की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने गन्ने का FRP बढ़ाने को हरी झंडी मिल गयी है इससे गन्ना उत्पादक किसानों में खुशी की लहर दौड़ गयी है कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार के इस फैसले से लाखों किसानों को फायदा होगा खासकर उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के किसानों को सबसे ज्यादा अधिक फायदा ही फायदा होगा UP Ganna Parchi Calendar

खड़ी फसल पर रोग लगने की स्थिति में ऐसा करें

खेत में टाइकोडर्मा हाइजेरियम का प्रयोग करें रोग से प्रभावित पौधों को जड़ सहित उखाड़कर किसी सुरक्षित स्थान पर जला दें तथा प्रभावित गन्ने के क्षेत्र जहां से गन्ना उखाड़ा गया हो वहां 5 ग्राम ब्लीचिंग पाउडर पानी में मिलाकर लगाएं इससे वह बीमारी खत्म हो जाएगी और ग्रीष्मकालीन जुताई अवश्य करनी चाहिए ग्रीष्मकालीन जुताई से मिट्टी से हानिकारक कीड़े खत्म हो जाते हैं।

केंद्र सरकार ने गन्ने के दाम बढ़ाने का निर्णय लिया

केंद्रीय कैबिनेट की बैठक के बाद केंद्र सरकार ने गन्ने का एफआरपी बढ़ाने का फैसला किया है सरकार ने FRP 10 रुपये बढ़ा दी है अब गन्ने की FRP 305 रुपये से बढ़कर 315 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है. खास बात यह है कि नया चीनी वर्ष अक्टूबर से शुरू हो रहा है ऐसे में सरकार का यह फैसला किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा कुछ लोग केंद्र सरकार के इस फैसले को राजनीति से भी जोड़ रहे हैं लोगों का कहना है कि अगले साल चुनाव होने वाले हैं ऐसे FRP बढ़ने से उत्तर प्रदेश के साथ-साथ कई राज्यों के किसानों को सीधा फायदा होगा

महाराष्ट्र में किसानों ने 14.9 लाख हेक्टेयर में गन्ना लगाया गया था

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश गन्ना उत्पादन के मामले में नंबर एक राज्य है यहां लाखों किसान गन्ने की खेती से जुड़े हुए हैं फसल सीजन 2022-23 के दौरान यूपी में 28.53 लाख हेक्टेयर में गन्ने की खेती की गई और महाराष्ट्र में किसानों ने 14.9 लाख हेक्टेयर में गन्ना लगाया गया था जबकि सम्पूर्ण भारत में गन्ने का क्षेत्रफल 62 लाख हेक्टेयर है। ऐसे में हम कह सकते हैं कि देश में गन्ने के कुल क्षेत्रफल में उत्तर प्रदेश की हिस्सेदारी 46 फीसदी है

यूपी गन्ना पर्ची कैलेंडर और सभी चीनी मील और उनकी वेबसाइट

नाम का जनपद
चीनी मिल नाम 
आधिकारिक वेबसाइट
सहारनपुर
देवबन्द
www.kisaan.net/
सरसावा (सहकारी)
www.upsugarfed.org
ननौता (सहकारी)
www.upsugarfed.org
गागनौली
www.bhlcane.com
शेरमऊ
www.kisaan.net
मुजफ्फरनगर
मन्सूरपुर
www.krishakmitra.com
खतौली
www.kisaan.net/
रोहाना
www.kisaan.net
मोरना (सहकारी)
www.upsugarfed.org
तितावी
www.kisaan.net
टिकौला
www.kisaan.net
बुढाना
www.bhlcane.com
खाईखेडी
www.kisaan.net
शामली
ऊन
www.kisaan.net
थानाभवन
www.bhlcane.com
शामली
www.kisaan.net
मेरठ
सकौती
www.kisaan.net
दौराला
www.kisaan.net
मवाना
www.kisaan.net
किनौनी
www.bhlcane.com
नगलामल
www.kisaan.net
बागपत
रमाला (सहकारी)
www.upsugarfed.org
मलकपुर
www.kisaan.net
गाज़ियाबाद
मोदीनगर
www.kisaan.net
हापुड़
सिम्भावली
www.kisaan.net
ब्रजनाथपुर
www.kisaan.net
बुलन्दशहर
अनूपशहर (सहकारी)
www.upsugarfed.org
अगौता
www.kisaan.net
साबितगढ
www.kisaan.net
बिजनौर
धामपुर
www.krishakmitra.com
स्योहारा
www.kisaan.net
बिजनौर
www.wavesuger.com
चान्दपुर
www.pbsfoods.in
स्नेहरोड (सहकारी)
www.upsugarfed.org
बहादुरपुर
www.kisaansoochna.dwarikesh.com
बरकतपुर
www.kisaan.net
बुन्दकी
www.kisaansoochna.dwarikesh.com
बिलाई
www.bhlcane.com
अमरोहा
चंदनपुर
www.kisaan.net
धनुरा
www.wavecane.in
गजरौला (सहकारी)
www.upsugarfed.org
मुरादाबाद
रानीनागल
www.kisaan.net
बिलारी
www.shreeajudhiasugar.com/
अगवानपुर
www.dewansugarsindia.com
बेलवाडा
www.kisaan.net
संभल
असमौली
www.krishakmitra.com
रजपुरा
www.krishakmitra.com
रामपुर
बिलासपुर
www.upsugarfed.org
मि.नरायनपुर
www.kisaan.net
करीमगंज
www.kisaan.net
पीलीभीत
पीलीभीत
www.lhsugar.in
बीसलपुर (सहकारी)
www.upsugarfed.org
पूरनपुर (सहकारी)
www.upsugarfed.org
बरखेडा
www.bhlcane.com
बरेली
बहेडी
www.kisaan.net
सेमिखेरा (सहकारी)
www.upsugarfed.org
मीरगंज
www.krishakmitra.com
नवाबगंज
www.oswalsugar.com
फ़रीदपुर
www.kisaansoochna.dwarikesh.com
बदायूँ
बिसौली
www.kisaan.org
बदायूँ (सहकारी)
www.upsugarfed.org
कासगंज
न्योली
www.kisaan.org
शाहजहाँपुर
रोज़ा
www.kisaan.net/
तिहार (सहकारी)
www.upsugarfed.org
निगोही
www.kisaan.net
मकसूदापुर
www.bhlcane.com
पुवायां (सहकारी)
http://www.upsugarfed.org/
हरदोई
रूपापुर
www.dsclsugar.com
हरियावा
www.dsclsugar.com
लोनी
www.dsclsugar.com
लखीमपुर
गोला
www.bhlcane.com
ऐरा
www.kisaan.net
पलिया
www.bhlcane.com
बेलराया (सहकारी)
www.upsugarfed.org
सम्पूर्नानगर (सहकारी)
www.upsugarfed.org
अजबापुर
www.dsclsugar.com
खम्भारखेडा
www.bhlcane.com
कुम्भी
www.bcmlcane.com
गुलरिया
www.bcmlcane.com
सीतापुर
हरगाँव
www.kisaan.net
बिसवाँ
www.gannakrishak.in
महमूदाबाद (सहकारी)
www.upsugarfed.org
रामगढ
www.kisaan.net
जवाहरपुर
www.kisaan.net
फर्रुखाबाद
करीमगंज
www.upsugarfed.org
बाराबंकी
हैदरगढ
www.bcmlcane.in/kisaan-suvidha
फैज़ाबाद
रोजागांव
www.bcmlcane.in/kisaan-suvidha
मोतीनगर
www.kisaan.net
अम्बेडकरनगर
मिझोडा
www.bcmlcane.in/kisaan-suvidha
सुल्तानपुर (सहकारी)
सुल्तानपुर
www.upsugarfed.org
गोण्डा
दतौली
www.bcmlcane.in
कुन्दरखी
www.bhlcane.in
मैजापुर
www.bcmlcane.in
बहराइच
जरवलरोड
www.kisaan.net
नानपारा (सहकारी)
www.upsugarfed.org
चिलवरिया
www.kisaan.net
परसेंडी
www.parlesugar.com
बलरामपुर
बलरामपुर
______
तुलसीपुर
www.bcml.in
इटईमैदा
www.bhlcane.in
बस्ती
बभनान
www.bcmlcane.in
वाल्टरगंज
www.bhlcane.com
रुधौली
www.bhlcane.com
महाराजगंज
सिसवाबाज़ार
www.kisaan.net
गडोरा
www.jhvsugar.in/
देवरिया
प्रतापपुर
www.bhlcane.com
कुशीनगर
हाटा
www.kisaan.net
कप्तानगंज
www.kisaan.net
खड्डा
www.kisaan.net
रामकोला (पी.)
www.kisaan.net
सेवरही
www.kisaan.net
मऊ
घोसी
www.upsugarfed.org
आजमगढ़
सठिओं (सहकारी)
www.upsugarfed.org

चीनी उत्पादन घटकर 32.8 मिलियन रह गया है

उत्तर प्रदेश में चीनी मिलों की संख्या 119 है और 50 लाख से अधिक किसान गन्ने की खेती करते हैं। इस साल यूपी में 1102.49 लाख टन गन्ने का उत्पादन हुआ चीनी मिलों में 1,099.49 लाख टन गन्ने की पेराई की गई इससे मिलों ने 105 लाख टन चीनी का उत्पादन किया इस प्रकार उत्तर प्रदेश के शामली जिले में सर्वाधिक गन्ना उत्पादन होता है। इस जिले में गन्ने की औसत उपज 962.12 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इस साल पूरे देश में चीनी का उत्पादन 35.76 मिलियन टन से घटकर 32.8 मिलियन टन रह गया है UP Ganna Parchi Calendar

यूपी के किसानों को मिलेगी बड़ी सौगात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के गन्ना किसानों को बड़ा तोहफा दिया। मुख्यमंत्री ने लोक भवन में एक कार्यक्रम में गन्ना किसानों को अंश प्रमाण पत्र वितरित किये जिससे प्रदेश के 50 लाख 10 हजार गन्ना किसानों को सीधा लाभ मिलने की उम्मीद है बताया जा रहा है कि राज्य में दूसरी बार सरकार बनने के 100 दिन के भीतर पेराई सत्र शुरू हो जाएगा 80 प्रतिशत से अधिक गन्ना किसानों को भुगतान किया जा चुका है।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गन्ना किसानों को अंश प्रमाण पत्र वितरित किये। राज्य में लगभग 193 सहकारी समितियाँ एवं गन्ना समितियाँ हैं प्रत्येक किसान इन समितियों का सदस्य है। वह फीस जमा करता है और उसके बाद ही वह अपना गन्ना दे पाता है। अभी तक गन्ना किसान इन समितियों से केवल सदस्य के रूप में जुड़े थे लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के 50 लाख 10 हजार गन्ना किसानों को अंश प्रमाण पत्र वितरित किये हैं जिससे वे भी इन समितियों में हितधारक बन गये हैं। UP Ganna Parchi Calendar

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top